गंगा सागर मेला राष्ट्रीय मेला घोषित होना चाहिये

13 जन॰ 2016, 8:46 am द्वारा news reporter प्रेषित   [ 13 जन॰ 2016, 8:50 am अपडेट किया गया ]
हम केंद्र सरकार से मांग करते है कि गंगा सागर मेला को राष्ट्रीय मेला घोषित करे !
Gangasagar-mela
सारे तीर्थ बार-बार गंगासागर एक बार", लेकिन इस कथन को कुछ सामाजिक संस्थाओ के प्रयास से लोग इसे मिथ्या मानने लगे है, उनका कहना है कि "सारे तीर्थ बार-बार गंगासागर एक बार" और "गंगासागर भी बार-बार"!! इसी सेवा कार्य में 2002 से अग्रसर प्रांतीय जयसवाल समाज भारत से सुदूर प्रदेशों से आये गंगासागर जाने वाले तीर्थ यात्रियों की सेवा में निरंतर लगे है।

 शनिवार को शुभ मानते हुए प्रांतीय जयसवाल समाज के गंगासागर सेवा शिविर का उद्घाटन उत्तर कोलकाता से सांसद सुदीप बन्धोपाद्याय के हांथो हुआ ! प.बंगाल सरकार के मंत्री साधन पाण्डेय तथा इस कार्यक्रम में समाज के बिभिन क्षेत्रो से जुड़े लगो कि गरिमामय उपस्थिति रही ! जिसमे मुख्य रूप से पार्षद सतोष पाठक .कुंवर सिंह आज़ाद, मौजूद थे। 

प्रांतीय जयसवाल के अनिल जायसवाल साईं ने कहा कि भूले बिसरे तीर्थयात्रीयों को उचित स्थान पर पहुचना, उनके आवास, जलपान,भोजन,और चिकित्सा की व्यवस्था करना उनका मुख्य कार्य है। इसी कार्य में उनके कार्यकर्ता दिन-रात लगे हुए है। तरकेश्वरनाथ जायसवाल ,जवाहरलाल जैसवाल और सुदामा प्रसाद जैसवाल गंगासागर सेवा शिविर कार्यक्रम में प्रांतीय जयसवाल के रीढ़ की हड्डी के रुप में  है, जिनके पारीश्रम से प्रांतीय जयसवाल निरंतर सेवा के कार्य में आगे है।
Comments