¨हिंदुओं"का अपना घर

24 अप्रैल 2015, 9:38 am द्वारा news reporter प्रेषित   [ 24 अप्रैल 2015, 9:40 am अपडेट किया गया ]
bharat-raksha-manch
भुवनेश्वर : विश्व के किसी भी देश में सताये जा रहे ¨हिंदुओं"का अपना घर भारत है।
दुनिया भर में रह रहे ¨हदुओं को जब भी सताया गया है, तब ¨हदू सहयोग के लिए भारत की तरफ देखते हैं। हमारा देश एवं देश के लोग भी उनके सहयोग को हरदम आगे रहते हैं। विश्व के किसी भी देश में सताये जा रहे ¨हदुओं का अपना घर भारत है। यहा तक कि तिब्बत के बौद्ध लोगों को भी सास्कृतिक दृष्टिकोण से हम उन्हें शरणार्थी के रूप में स्वीकार कर रहे हैं। बाग्लादेश से प्रताड़ित होकर भारत में शरण लेने वाले ¨हदुओं की समस्या जटिल है। भारत रक्षा मंच के अध्यक्ष रघुनंदन शर्मा, साधारण संपादक अनिल धीर, संयोजक सूर्यकात केलकर, राष्ट्रीय सह संयोजक मुरली शर्मा ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि ऐसे समय में केंद्र स्वराष्ट्र मंत्री ने बाग्लादेश में प्रताड़ित ¨हदुओं को भारतीय नागरिकता देने का जो निर्णय लिया है, वह स्वागत योग्य है।

नई दिल्ली में आयोजित भारत रक्षा मंच की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भाग लेकर भुवनेश्वर पहुंचे मंच के राष्ट्रीय सह संयोजक मुरली शर्मा ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि देश में गैरकानूनी ढंग से घुसकर राशनकार्ड, वोट परिचयपत्र हासिल करने के साथ देशवासियों की खाद्य सामग्री लूट करने, नियुक्ति में सहभागी बनने, कानून की स्थिति बिगाड़ने तथा आतंकवादी कार्य को बढ़ावा देने वाले बाग्लादेशी घुसपैठियों को इस देश से खदेड़ने के लिए मंच ने केंद्र सरकार से माग है। इसके लिए मंच केंद्र पर राजनीतिक, प्रशासनिक, कानूनी तथा मीडिया में अपना दबाव बनाए रखने का भी निर्णय लिया है। सुप्रीमकोर्ट में दाखिल एक जनहित याचिका के विचार समय में एटर्नी जनरल मुकुल रुतुगी ने जानकारी दी है कि भारत सरकार बाग्लादेशी शरणार्थी ¨हदुओं को भारत की नागरिकता देने के सपक्ष में है। इसके लिए चार सप्ताह के अंदर भारत सरकार की तरफ से सत्यपाठ दाखिल किया जाएगा।
रक्षामंच के राष्ट्रीय सह संयोजक मुरली शर्मा ने केंद्र स्वराष्ट्र मंत्रालय को इसके लिए धन्यवाद दिया है। पिछली 29 अप्रैल 2014 को भारत रक्षा मंच ओडिशा की तरफ से राज्पाल को दिए गए ज्ञापन में मछुआरों को बायोमैट्रिक परिचयपत्र देने की माग किया था। मंच के सदस्यों ने कहा कि इस माग को ओडिशा सरकार ने मानकर मछुआरों को परिचयपत्र प्रदान प्रक्रिया शुरू की है। जो स्वागत योग्य कदम है। मुरली शर्मा ने कहा कि नई दिगी में आयोजित इस दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी में आरएसएस के राष्ट्रीय संपर्क प्रमुख अरुण कुमार विशिष अतिथि के तौर पर भाग लिया थे। इस कार्यकारिणी में ओड़िशा से मुरली शर्मा, अनिल धीर, देव प्रसाद मिश्र प्रमुख ने भाग लेकर अपने विचार रखे थे।

Comments