दुनिया

दुनिया


पेशावर : मस्जिद पर हमला, 19 की मौत

14 फ़र॰ 2015, 6:48 am द्वारा news reporter प्रेषित   [ 14 फ़र॰ 2015, 6:50 am अपडेट किया गया ]

Image
मिडिया मे खबर है पाकिस्तान के पेशावर की एक शिया मस्जिद पर 13 फरवरी को आत्मघाती हमला हुआ, जिसमें 19 लोग मारे गए और 40 से अधिक घायल हुए हैं। प्रत्यदर्शियों के मुताबिक हमले के वक्त करीब 2 सौ लोग मस्जिद में नमाज अदा कर रहे थे।

स्थानीय अधिकारी ने बताया कि कुछ घायलों की हालत गंभीर है, इसलिए मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका है। पुलिस और सुरक्षाकर्मियों ने घटनास्थल पर पहुंचकर जांच शुरू की, लेकिन अब तक किसी भी संगठन ने इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है। वहीं पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने इस हमले की निंदा की।

ओबामा दूसरे दौर की डिबेट में रोमनी पर भारी परे और जीत हासिल किय़े

17 अक्तू॰ 2012, 9:18 pm द्वारा news reporter प्रेषित

obama
हाफ्स्ट्रा यूनिवर्सिटी में टाउन हाल शैली की बहस में रोमनी से मुकाबले के दौरान ओबामा पर अपनी तीन अक्टूबर को डेनवर में हुई पहली बहस में मिली पराजय का बदला लेने का जबरदस्त दबाव था। लेकिन इस बार ओबामा ने आक्रामक और प्रभावशाली तरीके से रोमनी के छक्के छुड़ा दिए।

ओबामा ने पहली डिबेट में की गयी अपनी गलतियों से सबक लेते हुए कर योजना , आउटसोर्सिंग और 47 फीसदी अमेरिकियों द्वारा आयकर अदा नहीं किए जाने की अपनी विवादास्पद टिप्पणी को लेकर रोमनी पर आक्रामक हमला बोला।

और बराक ओबामा ने दूसरी प्रेजीडेंशियल डिबेट में आउटसोर्सिंग तथा लीबिया जैसे मुद्दों पर आक्रामक तरीके से अपने रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी मिट रोमनी के दावों को काटते हुए बड़ी जीत हासिल करने कि खबर संबाद संस्थाओ द्वरा दि गय़ी है।

चीनी लेखक मो यान को साहित्य का नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा की गई है

12 अक्तू॰ 2012, 8:56 pm द्वारा news reporter प्रेषित

स्टॉकहोम: चीनी लेखक मो यान को साहित्य का नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा की गई है। इसके साथ ही साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित होने वाले वह पहले चीनी नागरिक बन गए हैं। यह पुरस्कार समिति की अनपेक्षित पसंद है, क्योंकि हाल के वर्षों में उसने यूरोपीय लेखकों को तरजीह दी थी।

स्वीडिश अकादमी ने मो के 'विभ्रम के यथार्थ' की सराहना करते हुए कहा, यह लोक कथाओं, इतिहास और सम-सामयिकता का सम्मिश्रण करता है। स्वीडिश अकादमी प्रतिष्ठित पुरस्कार के विजेताओं का चयन करती है। अकादमी के स्थायी सचिव पीटर इंग्लंड ने कहा कि घोषणा से पहले अकादमी ने मो से संपर्क किया था। इंग्लंड ने कहा, उन्होंने कहा कि वह काफी खुश और डरे हुए हैं।

यद्यपि 57-वर्षीय मो यान साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित होने वाले पहले चीनी नागरिक हैं, लेकिन यह कारनामा करने वाले वह पहले चीनी नहीं हैं। फ्रांस में प्रवास कर गए गाओ जिंगजियान को साल 2000 में अपने अमूर्त नाटकों और रचनात्मक गल्प के लिए इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उनकी कृतियां चीनी कम्युनिस्ट सरकार की आलोचना से भरी हैं और वे चीन में प्रतिबंधित हैं।  जब गाओ को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, तो कम्युनिस्ट नेतृत्व ने पुरस्कार को अस्वीकार कर दिया था। (Source:NDTV.Com)

1-3 of 3